Webgega.com

A Techy Hindi Magazine

Web Browser और Internet युग की शुरुआत

web browser:-

बीते  कुछ  वर्षों  से  हम  देखते  आ  रहे  हैं  की, हम  मनुष्यों  ने  Technology में  बहुत  से  कारनामे  किये  हैं , बहुत  सी  ऐसी  चीजों  को  निर्माण  हुआ  जिन्हे  देखकर  हमारी  आँखे  दंग  रह  जाती  हैं  और  वो  हमें  सोचने  पर  मजबूर  कर  देती  है,  की  आखिर  यह  कैसे  सम्भव  हैं ,ऐसी  बहुत  सी  खोज  हैं  जिन्हे  देखकर  आपकी  आँखे  फटी  की  फटी  रह  जाएंगी |

लेकिन  क्या  आपने  कभी  WWW के  बारे  में  सोचा  है, WWW से  मेरा  मतलब  ” World Wide Web ” हाँ यह वही है जिसे आप Internet के नाम से जानते हैं, हालाँकि Internet एक व्यापक विषय है लेकिन इसकी शुरुआत यही से हुई |

WWW अर्थात World Wide Web एक ऐसा अविष्कार है, जिसने  बहुत  ही  कम  वर्षो में  मनुष्य जाती  की काया  पलट  कर  रख  दी  है | यह दुनिया का सबसे पहला Web Browser है | जिसे आज प्रत्येक Website के नाम से पहले Use किया जाता है |

उदाहरण के तौर पे :- www.Facebook.com | www.youtube.com.

यह  एक  चक्रवाती  तूफ़ान  की  तरह  आया  और  सबको   चकरा  दिया, World Wide Web  एक आश्चर्य  जनक और आभाषी ब्रम्हाण्ड  है, जहां  बहुत  सारा  पैसा  है , जिसने  पता  नहीं  कितने अनगिनत  उद्द्योगो  का  नक्शा  बदल  कर  रख  दिया |

World Wide Web  ने  दुनिया  को  देखने  का  नजरिया  ही  बदल  दिया, जहाँ  इसने  लोगो  के  बीच  दूरियाँ  काम  की, और  सूचना   का  आदान  प्रदान  करने  का  सबसे  तेज़  माध्यम  बना  यहाँ तक  की  इसने  प्रेम  करने  और  इसके इजहार  करने  की  परिभाषा  को हि बदल  कर  रख  दिया |

Click here to Read :- What is eXtended Reality | जानिए हिंदी में

दोस्तों  आज  हम  Internet के  आदि  हो  चुके  हैं, माउस  के  एक  click  के  साथ  ही  हम  एक  नए  रास्ते  पर  पहुंच  जाते  हैं,  जहां  हमें  जाना  है| इतना  ही  नहीं  आज  इंटरनेट इतना  सक्षम  है की,  ये  आप  की  सोच  पर  निर्भर  करता  है  आपको  अपने  माउस  को  किस  डायरेक्शन  में  ले  जाना  है , इंटरनेट  ज्ञान  का  भण्डार  है  और  इच्छा  मृत्यु  के  लिए  बेहतरीन  जगह  भी, यहाँ से  आप  करोड़पति  भी  बन सकते  हैं  और  खुद  को बेहतरीन तरीके से  बर्बाद  भी  कर  सकते  हैं,  लेकिन  ये  सब   डिपेन्ड  करता  है  आपके  ऊपर |

लेकिन  90 के  दशक  की  शुरुआत  में  Web बहुत  मुश्किल था,  बुनियादी  तौर  पे  शोध  का  गूढ़  Network था | जिसकी  खोज  टीम  बर्नस्  ली  नाम  के  वैज्ञानिक  ने  की  थी,  उस  समय  तक  Web कुछ  पेजों  का  संकलन  था,  और  बोरिंग  लाइन्स  और  आंकड़ों  के  अलावा  कुछ  नहीं  था, उस  समय  तक  आम  आदमी  Internet की  पहुंच  से  कोसों  दूर  था |

ऐसा  कहा  जाता  था,  उस  समय  Internet सिर्फ  और  सिर्फ  सनकियों  के  लिए  था, जिनमे  स्टूडेंट्स , प्रोफ्फेर्स , वैज्ञानिक और  शोधकर्ता  शामिल  थे, ऐसे  ही  एक  सनकी  जिनका  नाम  मार्क  एंड्रीसन था जो  Computer Science की  पढाई  कर  रहे  थे |

जिन्होंने  WWW को  देख  कर  एक  ऐसे  सुनहरे  भविष्य  की  कल्पना  की  जिनमे  आम  लोग  भी  इसमें  भागिदार  बने मार्क  एंड्रीसन  का  कहना  था  की,  ये  भविष्य  को  बदल  देगी  और रचनाओं  के नए आयामों  का रूप  लेगी |

उस  समय  तक  Web को समझना बहुत  मुश्किल था  ठीक  उसी  तरह  जितना  आम  लोगो  के  लिए  एक  Computer Program को  समझ  पाना | लेकिन  मार्क  एंड्रीसन इससे  काफी  प्रभावित  हुए  और  जिसकी  कल्पना  उन्होंने  की |

Web Browser युग की शुरुआत 

WEB को  आम  लोगो  के  लिए  आसान  बनाने  के  लिए  इस  पर  उन्होंने  काम  शुरू  कर  दिया, और  दुनिया  का  पहला  ग्राफिकल  Web Browser बनने  में  उनको  सफलता  प्राप्त  हुई,  जिसका  नाम  था  ” Mosaic ”

इस  समय  इनके  साथ  कुछ  और  सदस्य भी  शामिल  थे,  आज  भी  जब आप  Internet Use करते  हैं,  आप  मार्क  एंड्रीसन की  कल्पना  में  शामिल  हो  जाते  हैं |

Mosaic उस  समय  आग  की  तरह  फैलने  लगा  और  कुछ  ही  महीनो  में  लोग  इस  Web Browser का  इस्तेमाल  बड़ी  तादाद  में करने लगे,  Mosaic की  सफलता  देख  एक  नए  WEb Browser की  कल्पना  की  गई,  जो  पहले  वाले Web Browser पर ही आधारित होगा |

Click here to Read :- What is Google Duplex | Google Voice Assistant Call

जिसमें  Internet को  व्यापार और  संचार में  नई  दिशा  देगा,  जिसके  लिए  Netscape कंपनी  की  शुरुआत  की  गई |  बाकि  दल  के  लोग  Netscape के  software को  बनाने  में  दिन  रात  मेहनत  करने  लगे  जिसमे  Silicon के  co-founder और  उनके  कुछ  साथी  शामिल  थे |

लेकिन  Microsoft के  Bill Gates अभी  भी  इस  बात  से  अनजान  थे, उस  समय  Microsoft एक  शहंशाह की  तरह था, जिसका  सभी  जगह  दबदबा  था |

कई  महीनो  की  कड़ी  मेहनत  के  बाद  13 OCT 1994 को  Netscape का  नया  Web Browser ” Navigator ” बाजार  में  आ  गया | इस  पल  के  बाद  Microsoft को  अपना  प्रतिद्वंदी  मिल  गया, और दोनों में घमासान युध्य होना लाजमी  था|

Netscape Navigator के  लांच  होते  ही  उसके लिए कामयाबी  के द्वार खुल  गए  जिसकी  भनक  Microsoft के  bill gates को नहीं  थी, लांच  होने  के  बाद इसके  download पर  नज़र  रखने  के  लिए  एक Computer सेट  किया जिसमें कोई भी Netscape Navigator को  डाउनलोड  करता तो Computer  से,  तोप से गोले निकलने  जैसी आवाज आती|

पूरी  दुनिया  में  Web जंगल  में आग की तरह फ़ैल रहा था,  Internet युग  के सुनहरे पल  की शुरुआत हो चुकी थी, लेकिन  Microsoft इससे  अभी  भी  अनजान  था, यह समय  Software की  दुनिया  के  इतिहास  का  सबसे  सुनहरा  पल  था |

उस  समय  तक web  में  जितने  भी  लोग  थे  उनमे  से  90 % लोग  Mosaic से  Netscape पर  आ  गए  थे | और  वो  वक्त  बहुत  जल्द  आ  गया  जब  Netscape के 10 lakh Downloads हो  गए  इसके  बाद  Software की दुनिया में  खलबली  मच  गई |

लेकिन Software के  बदलते  इस  रूप  को Microsoft अभी भी नजर अंदाज  कर  रहा  था, उस समय  इसके  कई  कारण थे, Computer पर  Business करने  के  लिए Software की आवश्यकता होती  है,  यह वो  Software था  जिसमे  दूसरे  software चलते  हैं|

जिसे आप Windows Operating System के नाम से जानते हैं, और  कंपनियों  के  लिए  Microsoft Windows के अलावा कोई  भी  plateform नहीं  था, Windows ही  वो  plateform है  जिसने  computer पर  business की  नई रूप रेखा तैयार  की |

लेकिन  Microsoft के  प्रतिद्वंदी  एक अलग ही भविष्य  की  कल्पना  कर रहे थे  जिसमे Web Browser को plateform माना जा रहा था, जिसमे  लोग अपने जरूरत के सभी काम इस plateform पर आकर कर सके |

Netsacpe की  इस  सफलता  से  Microsoft सकते  में आ गया,  क्योकि उस समय WEB को उतनी ज्यादा तवज्जो नहीं दी जाती  थी, और  Software के  मामले  में  Microsoft का ही बोल बाला  था |

कहीं ना कहीं Bill gates को  ये  बात  समझ  में  आ  गई,  की  उनके plateform को दूसरा कोई plateform चुनौती  दे रहा है,  जिसे  bill gates नजर अंदाज नहीं कर सकते थे, Bill gates ने  यह  माना  की  PC के बाद Web का  विकास ही एक महत्वपूर्ण विकास है |

जिसके  बाद  Microsoft ने  Netscape को अपना नया प्रतिद्वंदी माना और Bill gates ने अपने Employee को लेटर भेजा जिसमे कहा गया  की  ” लड़ो, बराबरी करो और उनसे आगे बढ़ो  ”

इस  समय  Netscape चरम  पे था,  Netscape को  काफी  पैसा और शोहरत मिली जिसके बाद Netscape में  काम  करने  वाले  सभी  लोगो के भाव बढ़ गए, जो की एक स्वाभाविक घटना है|

सफलता के बाद आपके बात करने के तरीके से लेकर, चाल-ढाल और रवैये में काफी अंतर देखने मिलता है, ऐसा हि कुछ Netscape के सदस्यों के साथ हुआ| मार्क एंड्रीसन ये मानने  लगे की  Windows एक  दिन ख़त्म हो जाएगा |

मार्क  एंड्रीसेन  ने  Microsoft को  इतना  तक  कह  दिया  की :-

” Windows ख़राब  Driver वाला Operating System है ”

मार्क एंड्रीसन द्वारा कहे गए ये  शब्द Bill Gates को गाली देने जैसे थे, और यह बात  Bill Gates के दिल पर  घर कर गई | इसके  बाद  Netscape और Microsoft में लड़ाई जैसा माहौल हो गया|

जिसके  बाद Microsoft के संस्थापक  Bill Gates ने  7 DEC 1995 को  दुनिया  को  दिखा दिया की Netscape पर  उनकी नजर थी,  और  इस लड़ाई को ख़त्म करने के लिए Microsoft ने अपना  Web Browser लांच कर दिया जिसका नाम था ” Internet Explorer ” जिससे  आप  सभी  वाकिफ  होंगे |

Microsoft ने अपने Web Browser पर लाखो डॉलर्स का निवेश किया और इसे  ” करो  या  मरो ” की स्तिथि बना दी, सोया हुआ शेर जाग गया था, जिसके बाद Netscape के लिए बड़ी मुश्किल  खड़ी होने वाली थी, जिसकी वजह साफ़ थी|

मार्क एंड्रीसन द्वारा कहे गए वो  शब्द जिसमे उन्होंने Windows को बेकार बताया उनके लिए सबसे बड़ी गलती साबित होने वाले थी |

सन 1996 में  Internet की धूम मच गई थी, अरबो डॉलर्स दांव पर थे, Microsoft और Netsscape के  बीच ताकत  का जोरदार संघर्ष  जोरों  पर था, की कौन Web की दुनिया में अपना प्रभुत्व स्थापित कर पाता है|  संघर्ष अपने सबसे ज्यादा नाटकीय चरम पे प्रवेश कर रहा था, और  ये  Netscape के लिए विनाश की स्थिति बन गई  थी |

Microsoft ने  Netscape को  ख़त्म करने  की ठान ली थी, जिसे जड़ से उखाड़ फेकना ही Microsoft का मकसद था, जिसके  लिए  वो  किसी भी हद तक जाने को तैयार थे |

दोनों ही कंपनी मार्केट शेयर पाने के लिए एक के बाद एक अपने  Web Browser के नए नए  Version लांच  करने लगी और एक समय ऐसा आया की Microsoft का Internet Explorer, Netscape के Navigator से ज्यादा मार्केट शेयर पाने में कामयाब  हुआ |

Click here to Read :- What is OLED Display | How do Oled’s work | know everything about OLED

इस समय तक Netscape को अपने बर्बादी के काले बादल मंडराते हुए नजर आने लगे थे, और Microsoft ने जले पे नमक और छिड़क  दिया , जब इन्होने Internet Explorer को  free में  देना  शुरू  कर  दिया |

और  लगभग  Internet Explorer के Version 4 को  80% से ज्यादा लोग इस्तेमाल करने लगे थे, जिसके  बाद  Netscape पूरी  तरह  बर्बादी  के कगार पर थी |

Internet की  शुरुआत  करने  वाली  कंपनी  Netscape के  शेयर  मार्केट  में  शेयर पूरी तरह से गिर गए कंपनी का अंत हो चुका था, जिसे  बाद में AOL नाम की कंपनी ने खरीद लिया| वही  दूसरी  तरफ  Internet Explorer के  मार्केट  में  छा  जाने  के  बाद  Microsoft कंपनी  के  लोग  इसका  जश्न  मनाने  में  व्यस्त  हो  गए |

इस  तरीके  से  Internet की  शुरुआत  हुई, लेकिन यह Microsoft के लिए आसान नहीं था, यह से एक जन्मी नई सोच को दूसरों का साथ  मिला और Google, Yahoo जैसी नई कंपनियां मार्केट में अपना दबदबा बनाने के लिए आ गई |

इस पोस्ट में बस इतना ही दोस्तों उम्मीद है, आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा| आगे  की पोस्ट में हम जानेंगे कैसे गूगल अपना दबदबा  बनाने में कामयाब रही, यदि यह पोस्ट आपको अच्छा लगा हो तो इसे Like, अपने दोस्तों के बीच Share और Comment करना ना भूले |

” धन्यवाद ”

History of web browser

 

 


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/wishextr/public_html/addon/webgega/wp-includes/functions.php on line 4212