Know Everything About GOOGLE | History Of Search Engine

Know Everything About GOOGLE :-

क्या आपने आज से 15 साल पहले ऐसे भविष्य की कल्पना की थी, जहां आपके 1 Click मात्र से ही आप दुनिया की सैर कर लेंगे, क्या आपने कभी सोचा था की आज जो आप Search करते हैं, उसके Result 1 second से भी कम समय में आपके सामने होते हैं|

क्या ये 15 साल पहले संभव था?  बेशक आपका जवाब नहीं में होगा क्योकि 15 साल पहले ऐसी चमत्कारी घटना नहीं होती थी, और उसके पहले के वर्षों में यह सब असंभव था |

जरा अपने दिमाग के ढक्कन को खोल के Facebook और Whatsapp से बाहर निकालेंगे तो 2 min. का मौन धारण करके आपको ये पता चलेगा की अगर Search करके अगर Information नहीं पाई जा सके तो World Wide Web ( WWW ) होने का क्या फायदा !

आज internet पर करोड़ों Websites हैं, और अनगिनत Web pages हैं, लेकिन जब भी आप कुछ Search करते हैं, आपको आपके मुताबिक जानकारी Google आपके सामने रख देता है, ये किसी चमत्कार से कम नहीं !

ये वो चमत्कार है जिसके बारे में हम सोचते तक नहीं हैं है| हम भूल जाते हैं की Web की सूरत कुछ ऐसी हुआ करती थी की जहाँ Text के अलावा कुछ और नहीं होता था, अपने काम की चीज ढूंढ पाना मतलब नदी में फेके हुए सिक्के को बहार निकल लाना जैसा था |

है ना कमाल की बात ! अब अपनी भावनाओ को दबाकर Google को बार बार Thanks मत बोलियेगा|

Click here to Read :- What is eXtended Reality | जानिए हिंदी में

Google ना सिर्फ World Wide Web का एक माध्यम बना बल्कि एक केंद्र बन के सामने उभरा है, जिसने पूरे World Wide web को अपने में समाहित कर लिया |
क्या Google के लिए सब इतना आसान था ? ये समझने के लिए की आखिर Web इतना चमत्कारी कैसे हुआ, इस क्रन्तिकारी पड़ाव में Google कैसे Google बना इसके लिए थोड़ा Flash Back में जाना तो बनता है |

जहां Google का नामो निशान तक नहीं था |

जिन Companiyon ने Search को आसान बनाने की कोशिश की उनमे Yahoo और Excite इतिहास के कुछ सबसे बड़े नाम थे |

यदि Yahoo की हम बात करे तो इसे 2 लड़को ने मिलकर शुरू किया था, जिनके नाम थे Jerry Yang और David Filo अपने College के दिनों में Jerry और David अजीबोगरीब प्रयोग किया करते थे, और उनसे जुड़े आंकड़ों की अपने Computer में इकठ्ठा किया करते थे |

उस समय Internet को एक बला के रूप में देखा जाता था, Jerry और David को Web पर प्रयोग करते करते इस बात की कमी महसूस होने लगी की उन्हें Internet पर किसी गाइड या किसी ऐसी Directory की जरूरत थी |

First page of Yahoo with Directories

जिसका Use करके उन्हें सही जानकारी मिल सके जो उन्हें सही Site तक ले जा सके, जिससे Internet का इस्तेमाल करने वाले नए लोगो को सहायता मिल सके |
और इसी Idea की वजह से Jerry और David को ऐसी Directory बनाने में सफलता हासिल हुई और वह रातों रात लोकप्रिय भी हो गई , और एक समय ऐसा आया जब करोड़ों लोग इस Directory का use करने लगे, जिसमे Search करके वो अपने मतलब की जानकारी हासिल कर सके |

और इस तरह से Yahoo अस्तित्व में आया |

Yahoo Company के खड़े होने के बाद इसमें निवेशकों की चिंताएं बढ़ने लगी की Company की Income कैसे होगी, उस समय तक सभी इस बात से अनजान थे की आखिर Internet से पैसे कैसे कमाय जा सकते हैं |

जिसके बाद Businessmen ने इस समस्या का हल ढूंढ निकाला और विज्ञापन के जरिये पैसा कमाने को सही ठहराया , जिसने Web के  व्यापरीकरण ( Commercialization ) के जन्म को एक नई दिशा दी |

लेकिन इस सोच को लेके भी 2 मत सामने आये, एक दल का सोचना था की, Internet विज्ञापन का एक नया माध्यम है, और उनका मत सही भी था, क्योकि ढेर सारे लोग यदि एक जगह आते जाते हों तो वहां विज्ञापन आसानी से बिकते हैं |

Click here to Read :- VIVO X21 | Black, 128 GB | 6 GB RAM | Price & Specification

दूसरे वे लोग थे जिनका ये मानना था की, लोगो को गैर जानकारी वाले विज्ञापनों से आजादी मिले , एक मत ये भी था की लोगो को Web पे विज्ञापन दिखाए जाते हैं, तो वो कहीं इसका बहिष्कार ना कर दे, और ऐसे Plateform पर दोबारा आये ही ना |

हालांकि Jerry और David ने कर्ज ले रखा था, तो उन्हें किसी ना किसी ऐसे पैसों के Source की आवश्यकता थी, जहाँ से अच्छी कमाई निकाली जा सके और विज्ञापन के अलावा उनके पास कोई और विकल्प नहीं था, और ढेर सारी चिंताओं के बावजूद Yahoo ने विज्ञापन स्वीकार किये |

Google & Yahoo

Yahoo की चिंता इस बात से थी की , कही उनके उपभोक्ता विज्ञापन को नकार ना दे , उनके इस फैसले की वजह से लोग उनसे नाराज ना हो जाए |

इस तरह कड़े फैसले लेते हुए Yahoo ने अपना पहला विज्ञापन अपने Portal पर जारी किया , लेकिन Yahoo की सभी प्रकार की चिंताएं बेकार साबित हुईं | और Yahoo के इस्तेमाल करने वाले लोगो की तादाद बढ़ती ही गई |

और बढे हुए Yahoo Users,  Yahoo को इस बात का संकेत दे रहे थे, की विज्ञापन दाताओं से विज्ञापन की अच्छी खासी मोटी रकम वसूल की जा सकती थी |

Yahoo ही वो पहली Company थी, जिसने दुनिया को दिखाया की Web के माध्यम से पैसा कमाया जा सकता था, जिसके बाद Yahoo के पास विज्ञापनों की भरमार लग गई | और इस तरीके से Web के व्यापारीकरण ( Commercialization ) की शुरुआत हुई |

Web के व्यापारीकरण ( Commercialization ) के बाद Yahoo को नई कम्पनिया चुनौती देने सामने आने लगी| लेकिन Yahoo को सबसे बड़ी चुनौती जिससे मिल रही थी, उसका नाम था Excite.

देखने में Excite, Yahoo जैसे ही थी| ये एक नई Search कंपनी थी , लेकिन इस Search Company ने जो तकनीक विकसित की थी, वो Yahoo की तकनीक से कही ज्यादा Advanced थी, जिसमे Yahoo की तरह हाथो से Web Directory नहीं बनाई गई थी|

google & excite
Excite :- First page

इसके लिए उन्होंने एक ऐसा Software विकसित किया, जो सूचनाओं को इकठ्ठा करता था, और Excite पर Search करके उन Site तक आसानी से पंहुचा जा सकता था |

ये उस Search का शुरूआती दौर था, जिसे आज हम आज के Search में इस्तेमाल करते हैं |

इस समय तक Search कंपनियों में दौलत कमाने की होड़ शुरू हो गई थी और महत्वकांछाएं अपने चरम पर थी , क्योकि करोड़ों लोग अब Search Engine पर आ चुके थे |

इस समय सभी कम्पनिया प्रतिस्पर्धा की होड़ में लग गई, और नए नए प्रयोग करने लगी जिनमे E-Mail जैसी सेवा भी शामिल थी |

लेकिन इसी बीच कम्पनिया अपना मूल काम भूलकर एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा करने लगी ,

मूल काम से मेरा मतलब Search !

Search कम्पनिया बनी ही इसलिए थी की, लोगो तक सही जानकारी आसानी से पंहुचा सके, लेकिन कम्पनिया अपनी चमक धमक में इतनी मशगूल हो गई की, उन्होंने Search को बेहतर बनाने की दिशा में ध्यान देना ही बंद कर दिया |

जिससे लोगो तक उनके द्वारा Search करने पर सही जानकारी उन तक नहीं पहुंच पा रही थी | और ज्यादातर Search उन्हें इस चीज के सामने आते थे जो किसी ना किसी विज्ञापन से जुड़े होते थे, जिनकी कोई जरूरत नहीं होती थी |

Click here to Read :- What is OLED Display | How do Oled’s work | know everything about OLED

दुनिया अब ऐसे रास्ते की तलाश में थी जहाँ उनके Search पर उन्हें सही Search हासिल हो, और ये तलाश वही से निकली जहाँ से Yahoo और Excite Search Engine कंपनियों का जन्म हुआ |

और इस तलाश का नाम था GOOGLE !

जिनके संस्थापक थे Larry Page और Sergey Brin.

Google के संस्थापक Larry page जिनका Search को लेकर सीधा और सरल सा Concept था | उनका कहना था की, Web पर मौजूद पेज वो खुद अपनी Importance बता देते हैं | यानि दूसरी साइट के साथ कौन सा Page कितनी बार लिंक हुआ है, वो ये Show करता है, की वह Page लोगो के लिए कितने काम का है |

उनका मानना था की एक Website से दूसरी Website को भेजा गया Link एक तरह की सलाह थी, और Larry ने Sergey के साथ मिल कर Google का First Page इसी विचार से मिलकर बनाया था |

इसे एक बार फिर से समझते हैं की, Web के किसी Page को Importance कैसे मिलती है :-

मान लीजिये Web Page A के बारे में कोई Site 1 करोड़ बार Link हुई है, और वही Web Page B के बारे में सिर्फ 10 हजार बार लिंक हुई है तो !

Google के हिसाब से लोगो के लिए Web Page A को ज्यादा वोट मिलते हैं, Web Page B से !

इसलिए Google अपने Search में Web Page A को सबसे ऊपर रखेगा और Web Page B को उसके बाद, इसी तरीके से Google Web Pages की Ranking करता है |

Click here to Read :-  Lenovo Z5 | Features | Price & Specification

Larry के लिए यह Link Counting की खोज वैसे तो बेहद सरल और अक्लमंदी वाली बात थी, जिसने आज Google को शोहरत के शिखर के नये आयाम दिए |

अपने इस Idea को लेकर Larry Page और Sergey Brin, Excite Search Company के पास गए, जिनके Search Result देखने के बाद Excite वालो ने यह कह दिया की :-

” Search कोई नई बात नहीं है, यह काम हम Excite पर इसी खूबी के साथ कर सकते हैं  ”

और उन्होंने Larry Page के इस Idea को नकार दिया, उस समय Excite Company Google को आसानी से खरीद सकती थी, लेकिन Excite, Google के इस Future को समझने में असफल रही |

और इस तरह सभी Search कंपनियों ने Larry Page के इस Idea को नकार दिया |

एक Investor को Larry Page का Idea पसंद आया, और Google को अपनी शुरुआती Funding मिली जो 1 Lakh Dollars थी |

लेकिन Larry Page और Sergey Brink को अच्छे से पता था, की इतने पैसों में कोई Company  खड़ी नहीं हो सकती | इसलिए उन्होंने और भी investors से मुलाकात जारी रखी |

Google का Search बाकि कंपनियों के Search से बहुत अलग जो, Google में किये गए Search से लोगो को सही जानकारी और Sites मिल रही थी , लेकिन इनके सामने अभी भी एक सबसे बड़ी दिक्कत थी,

” वो है पैसा ” कंपनियों को चलाने के लिए बहुत सारे पैसों की जरूरत थी, जितनी भी Funding उन्हें मिली वो काफी नहीं थी |

अब Google के पास एक ही रास्ता बचा था, वो भी Yahoo और Excite की तरह बैनर ads स्वीकार कर ले |

लेकिन Google के संस्थापकों ने ऐसा नहीं किया इसका सीधा सा Reason था की, लोग उनके Portal से खुश होकर लौटे और उनको वही विज्ञापन देखने को मिले जो सिर्फ उनके काम के हो |

ना की Yahoo और Excite की तरह फालतू के Ads दिखाकर, जो की इस समय तक Ads से बहुत सारा पैसा कमा रही थी |

Google AdWords

Larry Page और Sergey Brin विज्ञापनों के खिलाफ नहीं थे, वो सिर्फ इतना चाहते थे की जो भी लोग उनके Search Portal पर आये उन्हें सिर्फ उनके काम के ही Ads देखने को मिले |

लेकिन उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था की, यह कैसे पॉसिबल होगा | इसी समस्या का हल निकलने के लिए Google ने Bill Gross का Idea Copy कर लिया |

Bill Gross जिनकी Company Idea Generate करने में माहिर थी, और इन्होने Web Ads में अपनी पकड़ बनाने के लिए Internet पर use होने वाले Keyword को Ads से Link करने का रास्ता खोजा |

इसके बाद Google ने अपनी ” Ad Words ” नाम से Advertisement सेवा स्टार्ट की जो Bill Gross के Idea से हूबहू मिलती थी |

इसके लिए Bill Gross ने Google पर मुकदमा भी ठोका लेकिन Google ने Bill Gross को Google में अपने Share देकर खुश कर दिया |

जब आप Google में कोई भी Keyword टाइप करके Search करते हैं, आपको Side में उससे Related Ads भी Show होती हैं | Google Investors के लिए Ads Show करने के लिए एक बेहतरीन Plateform बना|

यह उन Search Company की तरह नहीं था, जो सभी को अपने Ads दिखाकर Investor से अपने पैसे निकल लेते थे |

इस तरह से Google सबको पीछे छोड़ते हुए Search Engine का एक बहुत बड़ा Plateform बनकर उभरा और सबकी जुबां पे सिर्फ और सिर्फ Google का नाम छा गया और हम सब का Favorite बन गया |

गूगल ने बहुत सारी Services Start की जिनमे से Android System जो की Smartfones के लिए अभी तक का सबसे बड़ा Operating System Plateform है |

दोस्तों ये थी Google और Search Engine के शुरूआती रूप की History, इसी तरह की जानकारी के लिए Webgega से जुड़े रहे, अगर ये जानकारी आपको पसंद आई है तो Share करना ना भूलें |

Click here to Read :-  Web Browser और Internet युग की शुरुआत

Google

Google

I'm Singh jitendra

Hello, I'm Jitendra ! Founder & Author at Webgega आप सभी का webgega में स्वागत है, इस website का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा में सभी प्रकार की Tech News लोगों तक पहुँचाना है, जिससे आम लोग भी टेक्नोलॉजी को अच्छे से समझ सकें| " धन्यवाद "

12 thoughts on “Know Everything About GOOGLE | History Of Search Engine

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *